Garbh Se Kabra Tak

Gharb se kabra tak

Kab janm lena hai kab mar jana hai
Es zindagi ka na koi thikana hai
Par ye to tay hai
Ek din return ticket to kat hi jana hai
Koun jaane….?
Zindgi ka aakhri pal kab aa jaye
Na jane kab sabse bichhad jaye
Jal jayegi haddiyan
Beh jayegi asthiyan
Reh jayegi to sirf
Hmare baatein aur yaade
Kitne najuk se kali ki trh garbh me rha
Na jane kitne god me khel kar pla
Hanshi dekha,gussa dekha,khin kruna to khin sanyam ka bhandar dekha
Khin kaouwe si karaksh boli to khin rashgulle sa mithas dekha
Jamin ke liye ek dusre se ladte dekha
En aakhon me thora thora kr ke sara sansar dekha
Kis baat ka ghmand uche jaat ka
Kis baat ka ahnkar paisa aur aisho aaram ka
Are dhram ke naam pe ladne wale
Jana aakhir sabko ek hi widhi hai
Whi samshan me saji chita
Aur dom ke hath se mili aag
Upper wale ki widambna to dekho
Rhne ke liye jmin ho ya na ho
Mrne se phle hi
Dafnane ke liye zmin khridna pdta hai
Kya hindu,kya muslim, kya sikh aur isai
Kisi ke jlaya to kisi me dafnaya
Har kisi ne ek n ek din es srir ko khoya
Kar lo koyal si mithi baatein,seh lo thora karwahat
Sambhal lo apna bikhra priwar,kar lo sabse pyar

Kab janm lena hai,kab mar jana h
Es zindagi ka na koi thikana hai
Pr ye to tay hai
Ek din return ticket to kat hi jana h

✍ Shweta Mehta

 

गर्भ से कब्र तक

कब जन्म लेना है कब मर जाना है
एस जिंदगी का कोई ठिकाना है
पर ये तो तय है
एक दिन रिटर्न टिकट कट ही जाना है
कौन जाने…?
जिंदगी का आखिरी पल कब आ जाए
न जाने कब सबसे बिछड़ जाए
जल जाएगी हड्डियां
बह जाएगी अस्तियां
रह जाएगी से सिर्फ
हमारे बातें और यादें
कितने नजुक से कली की तरह गर्भ में रहा
ना जाने कितने गोद में खेल कर पला
हंसी देखा, गुसा देखा, कहीं करुणा तो कहीं संयम का भंडार देखा
कहीं कौवे सी कर्कश बोली तो कहीं रशगुल्ले सा मीठास देखा
जमींन के लिए एक दुसरे से लड़ते देखा
इन आंखों ने थोड़ा थोड़ा कर के सारा संसार देखा
किस बात का घमण्ड ऊंचे जात का
किस बात का गुस्सा पैसा और ऐशो आराम का
अरे धर्म के नाम पर लड़ने वाले हैं?
जाना आखिर सबको एक ही विधि है
वहीं समशान में सजी चिता
और डोम के हाथ से मिली आग
ऊपर वाले की विडंबना तो देखो
रहने के लिए जमीं हो या ना हो
मरने से पहले
दफ़नाने के लिए ज़मीन ख़रीदना पड़ता है
क्या हिंदू, क्या मुस्लिम, क्या सिख और इसाई
किसी के जलया तो किसी ने दफ़नाया
हर किसी ने एक न एक दिन इस इस शरीर को खोया
कर लो कोयल सी मीठी बातें, सह लो थोड़ा करवाहट
संभाल लो अपना बिखरा परिवार, कर लो सबसे प्यार

कब जन्म लेना है, कब मर जाना है
इस जिंदगी का ना कोई ठिकाना है
पर ये तो तय है
एक दिन रिटर्न टिकट कट ही जाना है
एक दिन रिटर्न टिकट कट ही जाना है

✍ Shweta Mehta

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *