Ek shaam sukun ke naam

*एक शाम सुकून के नाम*

सुनहरा लाल आकाश और डूबता हुआ सूरज

चांद अपनी शीतल रोशनी भिखेरते हुए

पंक्षी अपने घोसले की तरफ बढ़ते हुए

तारे भी धीरे धीरे अपनी चमक लिए हुए

प्रकृति का ये मनमोहक दृश्य मन को लुभा जाए

ठंडी ठंडी शीतल हवाएं

रोम रोम को जगा जाए

जुल्फो का आंखो पर आना

धीमे धीमे गुनगुनाना

और तुम्हारी यादों में खो जाना

तुम ऑफिस से घर लौटने की खबर फोन पर बताते

और मेरा मन नए नए सपने सजाए हुए

तुम घर आकर प्यार भरी निगाहों से देखोगे

और मेरी निगाहें शरमाते हुए नीचे झुक जाएंगी

तुम अपने कदम मेरी तरफ बढ़ाओगे

मेरी धड़कने और तेज हो जाएगी

प्यार से मेरे चेहरे को अपनी तरफ उठाओगे

अपने होठों को मेरे माथे से लगाओगे

मेरा अंतरमन खुशियों से झूम जाएगा

और चेहरे पे अलग ही चमक लाएगा

तुम अपनी बाहों में मुझे समेट लोगे

मै खुद को तुमसे कभी आजाद न कर पाऊंगी

खुद को तुमको सौंपते हुए सुकून कि नींद सो जाउंगी।

✍ Shweta Mehta

Ek shaam sukun ke naam

Sunhra laal Aakash aur dubta hua suraj

Chand apni Shital roshni bhikherate hue

Pakshi apne ghoshle ki taraf badhte hue

Taare v dhire dhire apni chamak liye hue

Prakriti ka ye manmohak dhirishya man ko lubha jaye

Thandi thandi shital hwaaein

Rom rom ko jga jaye

Julfon ka aakho par aana

Dhire dhire gungunana

Aur tumhari yaadon me kho Jana

Tum office se ghar loutne ki khabar phone par btate

Aur mera man nye nye sapne szate hue

Tum ghar aakr pyar bhari nighaon se dekhoge

Aur meri nighahein sharmate hue niche jhuk jayegi

Tum apne kadam meri tarf bhdhaoge

Meri dharkne aur tej ho jayegi

Pyar se mere chehre ko apni taraf uthaoge

Apne hathon ko mere mathe se lgaoge

Mera antarman khushiyon se jhum uthega

Aur mere chehre pe alag hi chamak layega

Tum apni bahon me mujhe smet loge

Mai khud ko tumse aazad n kr paungi

Khud ko tumhe sounpte hue sukun ki nind so jaungi

✍ Shweta Mehta

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *