Author: Shweta Mehta

0

Garbh Se Kabra Tak

Gharb se kabra tak Kab janm lena hai kab mar jana haiEs zindagi ka na koi thikana haiPar ye to tay haiEk din return ticket to kat hi jana haiKoun jaane….?Zindgi ka aakhri pal...

0

Beinteha Pyar

Beinteha Pyar Suno n Mujhe tumse tumhari hi dher sari shikayt karni hai Tum sunoge kya…? Ye kaisa lgaw hai Tumse ladne ke baad Tum phle se kayi guna jayda yaad aane lgte ho...

0

Ek shaam sukun ke naam

*एक शाम सुकून के नाम* सुनहरा लाल आकाश और डूबता हुआ सूरज चांद अपनी शीतल रोशनी भिखेरते हुए पंक्षी अपने घोसले की तरफ बढ़ते हुए तारे भी धीरे धीरे अपनी चमक लिए हुए प्रकृति...

0

Unki tareef me kya khu…….

Kisi ne mujhse kha,apne pyar ke bare me kho…🤔 Pyar matlab mera sathi…..🤝🏻 Jaise diya sang bati….🤩 Kya khu uske bare me… Wo sabse alg h….🤗 Sabdo me….. koshish Wo jo meri surat se...

0

Wo Aurat Hai, Wo Nari Hai

वो औरत है, वो नारी है वो औरत है, वो नारी हैहर घर की वो बेमिसाल कहानी हैवो बेटी है, वो मां है,वो बहन हैमस्ती अठखेलियां करती दोस्त भी हैबड़े शोख से सजती संवरती...

Aaj Phir Se Jeene Ki Chahat Hai 0

Aaj Phir Se Jeene Ki Chahat Hai

Aaj Phir Se Jeene Ki Chahat Hai Aaj phir se jeene ki chahat haiKhuli hwa me lambi saanse bharne ki chahat haiRet si fisalti hui zindgi ko mutthi me band krne ki chahat haiApno...

Insaan Kitna Murkh Hai 0

Insaan Kitna Murkh Hai

इन्सान कितना मूर्ख है इन्सान कितना मूर्ख है प्रार्थना करते समय सोचते है, कि भगवान सब सुन रहे है लेकिन किसी की निन्दा करते समय,ये भूल जाते है पुण्य का कार्य करते समय सोचते...

Pyaar ka izhaar 0

Pyaar Ka Izhaar

प्यार का इजहार वो गुड्डे-गुड़ियों का खेल आज ही हकीकत बन सामने आयी थी……. सच बताओ वो खेल था,गाना सुनाने का या फिर तरीका था, मुझे अपने करीब लाने का…. एक शाम मै भी...

Ae Zindagi 0

Ae Zindagi

ए- ज़िन्दगी ए- जिंदगी! तेरे इस माया जाल मेंखुद को तलाशती हूं मैंगिरती हूं, उठती हूंफिर चलना सीख जाती हूंमुझे नहीं पता क्या है गलत,सही क्या हैबस मुश्किलों में खुद को अकेला पाती हूं...

Kuch Kehna Chahti Hai Humse 0

Kuch Kehna Chahti Hai Humse

कुछ कहना चाहती है, हमसे प्रकृतिकुछ कहना चाहती है, हमसे इन पत्तों का झूमनाये हवाओं का चलनापेड़ों पर फुदकते चिड़ियों का शोरकुछ कहना चाहती है, हमसे बारिश में नाचते मोरबसंत में गाती हुई कोयलये...

Coronavirus 0

Coronavirus

कोरोना वायरस किसे पता था,ऐसा भी वक़्त देखना पड़ेगा…. हर पल यू,हाथ धोना पड़ेगा… अब समझ आया,उन बेजुबान पंक्षियों और जानवरों की हालत… जब कुछ महीने घर पे रहने की लगी आदत… किसे पता...

Kya Larki Hona Paap Hai 0

Kya Larki Hona Paap Hai

क्या लड़की होना पाप है ? क्या लड़की होना पाप है? हर मुश्किल में मां हमने तुमको पुकारा है…. कण- कण में विराजमान होकर ही……. तुमने दुष्टों को संघारा है…. सीता के अपहरण से,राम...

Aakhir Aisa Kyu 0

Aakhir Aisa Kyu

आखिर ऐसा क्यों? स्त्री कितना छोटा सा शब्द है न….? पर इस छोटे से शब्द में ही सारा संसार बसा है…. स्त्री जिसे लोग देवी के रूप में, मां के रूप में पूजते है…....

Bachpan 0

Bachpan

बचपन वो बचपन भी क्या जमाना था….खुशियों से भरा खजाना था…बारिश में वो कागज़ की कश्ती….खेलने की मस्ती…और ये दिल भी तो आवारा था…मम्मी की गोद,पापा का कंधा…मस्त, बिंदास लाइफ…ना सुबह की खबर,ना शाम...

Kaash Zindagi Sachmuch Kitaab Hoti 0

Kaash Zindagi Sachmuch Kitaab Hoti

काश ज़िन्दगी सचमुच किताब होती _काश, ज़िन्दगी सचमुच किताब होती…काश, मै पढ़ सकती आगे क्या होगा?क्या मुझे पाना है,क्या खोना है…कब खुशियां मिलेगी,कब रोना है…फाड़ देती हर उस पन्ने को जिसने मुझे रुलाया…लिख देती...